_” आतंकवाद से त्रस्त मन की पुकार “

aparna thapliyal

रचनाकार- aparna thapliyal

विधा- कविता

मुझे नई सुबह की तलाशहै
रात के अँधेरे में
आग के घेरे में
जल रहा आज जिन्दगी का पलाश है
मुझे नई सुबह की तलाश है .
कहीं मारकाट मची हुई
कहीं साज़िशें हैं रची हुई
कहीं जिबह होती आस है
मुझे नई सुबह की तलाश है .
धुआँ धुआँ छिटका हुआ
चिंगारियों का नृत्य है
ज़लज़ला छाया हुआ
हवा भी बदहवास है
मुझे नई सुबह की तलाश है .
कहीं हत्या है
कहीं लूट है
कहीं बलात्कार की छूट है
राजे मुहब्बत सो रहा
इंसाँ का मन बेआस है
मुझे नई सुबह की तलाश है .
धरती है खून से सिंच रही
यारी की डोर है खिंच रही
अदालतें पंचायतें
सब लग रहीं
ज्यों हताश हैं
मुझे नई सुबह की तलाश है .
क्या बुद्ध ,ईसा सो गए
गाँधी, कबीर भी खो गए
कहते हैं कलयुग आ गया
राम और कृष्ण निराश हैं
मुझे नई सुबह की तलाश है
मुझे नई सुबह की तलाश है
अपर्णा थपलियाल"रानू"

Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
aparna thapliyal
Posts 31
Total Views 343

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia