वो एक अकेली पर, दो घर को संजोये है

रजनी मलिक

रचनाकार- रजनी मलिक

विधा- गज़ल/गीतिका

"वो एक अकेली पर ,दो घर को संजोये है।
अनमोल खजाना है,बेटी में जो पाए है।"
ये रस्म विदा की इक आँगन से हुई जब भी,
छूटे वही सब रिश्ते,जो प्यार से बोये है।
वो छाव हुई आँचल,की अब है पराई माँ,
पुर धूप में हम जिसमें,बस चैन से सोये है।
दहलीज से बेटी को ,बस देख रहे बाबा,
कह पाए नहीं कुछ भी,वो आँख भिगोये है।
#रजनी

Views 59
Sponsored
Author
रजनी मलिक
Posts 29
Total Views 1.9k
योग्यता-M.sc (maths) संगीत;लेखन, साहित्य में विशेष रूचि "मुझे उन शब्दों की तलाश है;जो सिर्फ मेरे हो।"
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia