3. पुकार

Versha Varshney

रचनाकार- Versha Varshney

विधा- कविता

सुनो क्यूँ करते हो तुम ऐसा जब भी कुछ कहना चाहती हूँ दिल से ,
समझते ही नहीं मुझे ,जानते हो न मुझे आदत है यूँ ही आँसू बहाने की !

क्यूँ करते हो तुम ऐसा ,क्यूँ नहीं समझते मेरे जज्बात ,मेरी दिल्लगी ,

कल जब हम न होंगे तो , किसको सुनाओगे कहानी अपने दिल की !

आज वक़्त है तुम्हारा तो जलजले दिखाते हो ,कहती हूँ फिर दिल से ,

दूर नहीं वो दिन बगाबत पर उतर आएगी ,जब ये मेरे दिल की लगी !

क्यूँ अच्छा लगता है तुम्हें मेरा हर पल आंसुओं में डूबा हुआ चेहरा ,

क्यूँ नहीं आई होठों पर कभी हंसी और मुस्कराहट सुहानी सी !

चलो देखते हैं कब दौर खत्म होगा मेरी जिंदगानी के पल पल ढलते ,

खून और जलती हुई चिंगारियों का !
सहनशीलता की पराकाष्ठा बहुत है , शायद टूटना मुश्किल है मेरा ,

यही तो जिंदगी है और यही जिंदगी की समरसता है आज भी ,

चलो छोड़ो रहने दो तुम नहीं समझोगे कभी मुझे अपना दिल से !!

Views 59
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Versha Varshney
Posts 13
Total Views 1.1k
कवियित्री और लेखिका अलीगढ़ यू पी !_यही है_ जिंदगी" मेरा कविता संग्रह है ! विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में लेखन ! साझा संकलन -१.भारत की प्रतिभाशाली हिंदी कवयित्रियाँ ! २.पुष्पगंधा pride of the women award 2017 Money is not important then love,bec love is God n God is our life . my blog -http://vershavarshney.blogspot.in/ my page -https://www.facebook.com/versha22.writer/?ref=aymt_homepage_panel .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment
  1. बहुत खूब , शब्दों की जीवंत भावनाएं… सुन्दर चित्रांकन