🙏 माँ के साथ…माँ के बाद…

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- मुक्तक

🙏 दो मुक्तक 🙏

*माँ के साथ*

मिली माँ मुझको सजदे में कभी जब भी हुई देरी।
सदा लेकर के पहलू में छुपा दीं गलतियाँ मेरी।
मैं माँ के "तेज" से सीढ़ी चढ़ा हूँ ये बुलन्दी की।
"चरण माँ के छुए" जब भी "इबादत" हो गयी मेरी।

🌹🌼💐🌸🌺🌻🌺💐🌼🌹

*माँ के बाद*

व्याकुल होकर हम ग़ाफ़िल से घूम रहे संसार में।
ढूंढ़ रहीं हैं "माँ" को आँखें आज तलक घर द्वार में।
बरकत,प्रेम "इबादत" उसके साथ ही नाता तोड़ गयीं।
'तेज' जली होली रिश्तों की दुनियां के बाजार में।

🌹🌼💐🌻🌸💐🌼💐🌸🌹
🙏तेज15/5/17✍

Sponsored
Views 89
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 90
Total Views 1.4k
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia