🙂दायरे ।

Manchan Kumari मंचन कुमारी

रचनाकार- Manchan Kumari मंचन कुमारी

विधा- कविता

🙂
सोचो के दायरे ,
ये सपनों के दायरे ।
बोले तो क्या बोले,
ये लफ्जों के दायरे।(1)
हैं पड़े यहाँ हम तुम,
हैं घिरे यहाँ हम तुम,
दुनियादारी और रिश्ते मे,
हैं बंधे यहाँ हम तुम।(2)
कुछ आप करें,
कुछ हम करें।
जो दिल बोले,
वो सब करें ।(3)
है दूर नही मंजिल कोई,
है कठिन नही रिश्ता कोई ।
दिल से गर हम ठान ले,
नामुमकिन नही सपना कोई ।(4)
27/11/2016
~~~~~~~ मंचन। 😊

Sponsored
Views 47
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Manchan Kumari मंचन कुमारी
Posts 7
Total Views 473
Student समस्तीपुर कालेज , समस्तीपुर ! हिन्दी एवं अंग्रेजी मे लिखना पसंद है, .....कुछ अच्छा लिखना मेरा सपना है । ( लिखना तो बस आदत ही नही, कुछ भी लिख दूँ ऐसी चाहत ही नही , मन बोले शब्दों को तौलें , दिल की बाते भी ये इबादत ही नही । ……….मंचन .)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia