😁 हास्य जीजा-साली 😁

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- कुण्डलिया

जीजा-साली कुण्डलिया

🌹🌻🌺🌻🌺🌻🌺🌻🌺

जीजा-साली सों कहे,सुन ले देकर ध्यान।
कह दे अपनी बहन ते,करै मेरौ सम्मान।
करै मेरौ सम्मान,मान कें पति-परमेश्वर।
मेरे नाज उठाय,त्याग दे अपने तेवर।
बीबी बोली घाघ, तेरौ अब कर दूँ तीजा।
भगि रहे दुम दबाय, *तेज* कदमन ते जीजा।

🌹🌻🌺🌻🌺🌻🌺🌻🌹

जीजाजी आवेश तर,छोड़ भगे ससुराल।
साली नें चुटकी लई, 'और सुनाऔ हाल'।
और सुनाऔ हाल,भई हमसे क्या गलती।
दीदी रहीं बुलाय,आपकी भजिया तलती।
भूल-चूक कर माफ़,शॉप ते लैयों भाजी।
*तेज* पड़ें बीमार,लौट अइयों जीजाजी।

🌹🌻🌺🌻🌺🌻🌺🌻🌺🌹
🙏तेज मथुरा

Views 47
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 64
Total Views 586
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia