😁हास्य-साली है फ़िल्मी चित्रहार….

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- अन्य

😁😁😁😁😁😁😁😁

साली है फ़िल्मी चित्रहार,
बहुरंगी-सी पिचकारी है।
मदभरी चाल जब चलती है,
अच्छे-अच्छों को भारी है।
पत्नी तो ढोल बेसुरा सा,
बेढंगा राग बजाती है।
खाने से भरता पेट नहीं,
तो पति का भेजा खाती है।

साली करेंट है बिजली का,
झटका देती टच होने पर।
जब चाल नशीली चलती है,
पायल की छम-छम होने पर।
पत्नी तो फ्यूज बल्ब जैसी,
हर समय उड़ी सी रहती है।
जलती है-ना जलने देती है,
गुस्से में उखड़ी रहती है।

साली रसभरी इमरती-सी,
और कोमल गाल मलाई-से।
बूढ़े भी शक्ति पाते हैं,
इस पावर फोर्ट दवाई से।
पत्नी जैसे कुक्कुर खांसी,
बस साँस उखाड़े रखती है।
घर-घर बेचारा 'पीड़ित-पति',
रग-रग-सी जिसकी दुखती है।

साली है ख्वाब सुनहरा-सा,
है एटम बम्ब दिवाली का।
बस रोक रहा हूँ कलम यहाँ,
डर बहुत "तेज" घरवाली का।

😁😁😁😁😁😁😁😁😁
🙏तेज

Sponsored
Views 105
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 89
Total Views 1.4k
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia