💝💝छप्पय छंद💝💝

Radhey shyam Pritam

रचनाकार- Radhey shyam Pritam

विधा- अन्य

विधा- छप्पय छंद…प्रीतम कृत
************************
होठों पर मुस्कान,दिल में लेकर अरमान।
मंजिल मिलेगी रे,चलोगे यार तुम ठान।
हौंसलों की सदैव,होती है जीत सुनिए।
जिसने चाहा मिला,उसको है मीत सुनिए।
कोशिशें नाकाम न होती,सकारात्मक रहिए जी।
एकताल जीवन की बना,विचारात्मक बहिए जी।
************राधेयश्याम बंगालिया
************प्रीतम******कृत
परिभाषा
*******
रोला+उल्लाला=छप्पय छंद
छप्पय छंद में कुंडलिया छंद की तरह छह चरण होते हैं,
प्रथम चार चरण रोला छंद के जिसके प्रत्येक चरण में 24-24 मात्राएँ होती हैं,यति 11-13 पर होती है।
आखिर के दो चरण उल्लाला छंद के होते हैं,जिसके प्रत्येक चरण में 28-28 मात्राएँ होते हैं और यति 15-13 पर होती है।
छप्पय एक अर्द्ध सममात्रिक छंद है…जो अतिसुंदर है
राधेयश्याम बंगालिया "प्रीतम"
**********************
**********************
Sponsored

Sponsored
Views 20
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Radhey shyam Pritam
Posts 180
Total Views 10.6k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia