🐣 हौसलों की उड़ान🐤

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- गज़ल/गीतिका

🦅🕊 *हौसलों की उड़ान* 🕊🦅
🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊🕊

ए परिंदे ! डर रहा क्यों *हौसलों की उड़ान* से।
अभी तो दो-दो हाथ करने हैं तुझे असमान से।

पूछ लेना *"ऐ हवाओ! क्या तुम्हें मालूम है?*
*आज ही निकला हूँ उड़ने मैं अनौखी शान से।"*

चीर कर के बादलों को,खुद बना रस्ते नए।
प्रश्न अनसुलझे सुलझ,जाएं तेरे स्वाभिमान से।

पाल बैठे थे जो शंका,आज हों निर्मूल सब।
*गूंज जाएं चहुं दिशाएं,इक नए यशगान से।*

जो हुनर तूने है पाया,खुद तलक सीमित ना रख।
अपनी यशगाथा को जाकर,बाँट सारे जहांन से।

*तेज* उड़ने का भरोसा,पंख पर कायम न रख।
है तेरी कोशिश का फल,जो की गई ईमान से।

*ये नई ऊंचाइयां पाकर,ना मद में चूर हो।*
*बच के रहना जिंदगी में,खुदी के अभिमान से।*

बस सबक ये जिंदगी का,याद रखना तू सदा।
*कर ना समझौता कभी तू खुद के ही सम्मान से।*

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
🙏तेज 9/5/17✍

Sponsored
Views 57
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 90
Total Views 1.4k
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia