🌻 बेटी 🌻

Tejvir Singh

रचनाकार- Tejvir Singh

विधा- मुक्तक

🌺🌺 मुक्तक 🌺🌺

शर्त लगी थी एक शब्द में, लिखनी हैं जग की खुशियाँ ।
मैंने तो "बेटी" लिख डाला, करके अपना दर्द बयाँ।
जग की सब नेमत हैं जिसके,धूल बराबर पैरों की।
क्यों करती है "तेज" कोख में,इनकी हत्या ये दुनियाँ।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
©तेजवीर सिंह "तेज"

Views 5
Sponsored
Author
Tejvir Singh
Posts 27
Total Views 155
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia