गज़ल

शिव मोहन यादव

रचनाकार- शिव मोहन यादव

विधा- गज़ल/गीतिका

गज़ल

साथ तुमने दिया तो संवर जाएंगे।
हम मुहब्बत में हद से गुज़र जाएंगे।

गर जो थामा है दामन तो ये सोच लो,
तुमने छोड़ा तो सचमुच बिखर जाएंगे।

मुश्किलों से मिली है ये कारीगरी,
मौत के साथ मेरे हुनर जाएंगे।

तुम भुला क्या सकोगे हमें उम्र भर,
हम तेरी रूह तक में उतर जाएंगे।

गर ख़ुदा भी कहे दूर हो यार से,
यार तेरी क़सम हम मुकर जाएंगे।

– शिव मोहन यादव

Views 94
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
शिव मोहन यादव
Posts 5
Total Views 168
जन्म- नेरा कृपालपुर, कानपुर देहात में माता-पिता : श्रीमती कुषमा देवी-श्री सूरज सिंह शिक्षा: बी.एस-सी., एम.ए.(जनसंचार एवं पत्रकारिता) लेखक 'दैनिक जागरण' में उप संपादक रहे हैं. पता - नेरा कृपालपुर, गौरीकरन, कानपुर दे. यूपी मो. 9616926050 ई-मेल - shivmohanyadavkanpur@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia