🌺🌻 श्रीकृष्ण लीला 🌻🌺

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- घनाक्षरी

🙏 श्रीकृष्ण लीला 🙏
(प्रसङ्ग – खेल में श्रीकृष्ण और सखाओं के बीच का वार्तालाप )
🌷विधा – मनहरण घनाक्षरी🌷

🙏जय जय श्रीराधे…..श्याम🙏
🌴🌹🌼🌻🌺🌹🌼🌺🌻🌴

कुंजन निकुंजन में
खेल-खेल लुका-छिपी
समझे हो मन-मांहि
बड़े ही खिलार हौ।

धार कें उंगरिया पै
थारी बिन पैंदे वारी
करौ अभिमान बड़े
तीक्ष्ण हथियार हौ।

देखौ रण-कौशल हू
भागि भये रणछोर
अरे डरपोक कहा
भौंथरी ही धार हौ।

हमऊँ हैं ब्रजबासी
झांसे में यों नाय आवैं
तेज भले कितने हो
पर तुम गमार हौ।

🌴🌺🌻🌹🌼🌺🌻🌹🌼🌴

खेल रह्यौ घात कर
*जीत* की न बात कर
घने देखे तेरे जैसे
कृष्ण-नंदराय जू।

तेरे हों खिरक भरे
कमी हमारेउ नाय
अनगिन बंधी द्वार
जाय देख गाय जू।

नित करै रुमठाई
हमपै सही न जाय
जाय जसुदा के ढिंग
दें सब सुनाय जू।

बसते न तेरी ठौर
न ही तेरौ दियौ खामें
'तेज' ऐसे लच्छन न
हमकूं सुहाय जू।

🌴🌺🌻🌹🌼🌺🌻🌹🌼🌴
🙏 तेज मथुरा✍

Views 8
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 75
Total Views 869
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia