🌷सेना के जांबाजो को मेरा प्रणाम💐

मानक लाल*मनु*

रचनाकार- मानक लाल*मनु*

विधा- कविता

🌷सेना के जांबाजो को मेरा प्रणाम💐

हर हाल उनका हमें ये सवाल करता है।।
माँ का लाल सबको खुशहाल करता है।।

हर कोई जान नहीं दे सकता अपनी ये,
सिर्फ माँ भारती का लाल करता है।।

हम एक काँटे के चुभने डरते जाते है,
वो मौत से भी जंगी सवाल करता है।।

जान देता है देश की खातिर हँसते हुये,
वक़्त पर दुश्मन को भी हलाल करता है।।

जख़्म ये हमारे उनकी वजह से मिटते है,
वो खुद जख्मी हो कमाल करता है।।

मनु मन से तुम्हे नमन करता है।।
जो जान वतन पे हवाल करता है।।

*मानक लाल मनु*

Views 9
Sponsored
Author
मानक लाल*मनु*
Posts 42
Total Views 707
सरस्वती साहित्य परिशद के सदस्य के रूप में रचना पाठ,,, स्थानीय समाचार पत्रों में रचना प्रकाशित,,, सभी विधाओं में रचनाकरण, मानक लाल मनु,
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia