⁉क्या है तू ⁉

मानक लाल*मनु*

रचनाकार- मानक लाल*मनु*

विधा- कविता

⁉क्या है तू ⁉

रुह की प्यास बुझा दी है तेरी क़ुरबत ने।
तू कोई झील है,
झरना है,
घटा है,
क्या है तू?

नाम होटों पे तेरा आए तो राहत सी मिले।
तू तसल्ली है,
दिलासा है,
दुआ है,
क्या है तू?

तेरा सिवा ज़माने में कोई अच्छा न लगे।
तू पसंद है,
मकरन्द है,
गुलकंद है,
क्या है तू?

तेरी जुस्तजू मेरे दिल को बाग़ बाग़ करती है।
तू महक है,
गुल है,
पराग है,
क्या है तू?

मन मनु का हरदम तेरा होने को फ़ना है।
तू सपना है,
हकीकत है,
फ़साना है
क्या है तू?
मानक लाल मनु✍

Sponsored
Views 22
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मानक लाल*मनु*
Posts 61
Total Views 1k
सरस्वती साहित्य परिसद के सदस्य के रूप में रचना पाठ,,, स्थानीय समाचार पत्रों में रचना प्रकाशित,,, सभी विधाओं में रचनाकरण, मानक लाल मनु,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia