॥माँसाहार मानव भोजन नहीं॥ हाइकु

Abhishek Parashar

रचनाकार- Abhishek Parashar

विधा- हाइकु

माँसाहार का,
प्रभाव होता बुरा,
शरीर पर ॥1॥

नर हुआ है,
दानव निरा भूखा
खाता जीवों को॥2॥

सूझता नहीं,
उसे कुछ,मारता,
बेक़सूरों को॥3॥

पेट भरना,
कैसे भी हो अपना,
हिंसक हुआ ॥4॥

गाय या मुर्गा,
जीव सभी में एक,
बूझे, क्यों न ॥5॥

मृत हुआ है,
मन, तन भी है जो,
देवदुर्लभ॥6॥

निदर्शन है,
मानव, दानव का,
वर्तमान में॥7॥

ऐसा क्यों है?
सोचता नहीं, मानव,
सूनसान में ॥8॥

उपकृत है,
ईश्वर के प्रति जो,
कलेवर का॥9॥

करे प्रहार,
स्वजन पर क्यों न,
रहम आए ॥10॥
##अभिषेक पाराशर (9411931822)##

Views 71
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Abhishek Parashar
Posts 25
Total Views 1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia