“ज़िन्दगी”

Rupesh Kumar

रचनाकार- Rupesh Kumar

विधा- कविता

लोग बुरे नहीं होते….
बस जब आपके मतलब के नहीं होते…
तो बुरे लगने लगते है…।।
समझनी है जिंदगी तो पीछे देखो
जीनी है जिंदगी को तो आगे देखो
हम भी वहीं होते है
रिश्ते भी वहीं होते हैं
और रास्ते भी वहीं होते हैं
बदलता है तो बस….
समय,एहसास और नजरिया…।।

~ रूपेश कुमार

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rupesh Kumar
Posts 2
Total Views 14
I am a competitive student... i am research schooler..

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia