ज़िन्दगी दुश्वार लेकिन प्यार कर

हिमकर श्याम

रचनाकार- हिमकर श्याम

विधा- गज़ल/गीतिका

मुश्किलों को हौसलों से पार कर
ज़िन्दगी दुश्वार लेकिन प्यार कर

सामने होती मसाइल इक नयी
बैठ मत जा गर्दिशों से हार कर

बात दिल में जो दबी कह दे उसे
इश्क़ है उससे अगर इज़हार कर

नफरतों का बीज कोई बो रहा
दोस्तों से यूँ न तू तक़रार कर

ढूंढता दिल चन्द खुशियों की घड़ी
अब ग़मों पर खुद पलट कर वार कर

दूर मंज़िल हैं अभी रस्ता कठिन
ज़िन्दगी की राह को हमवार कर

अपने ख़्वाबों की निगहबानी करो
फायदा क्या ख़्वाहिशों को मार कर

है हमें लड़ना मुसलसल वक़्त से
हर घड़ी हासिल तज़ुर्बा यार कर

-हिमकर श्याम

Sponsored
Views 76
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
हिमकर श्याम
Posts 17
Total Views 967
स्वतंत्र पत्रकार, लेखक और ब्लॉगर http://himkarshyam.blogspot.in https://doosariaawaz.wordpress.com/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
8 comments
  1. अपने ख़्वाबों की निगहबानी करो
    फायदा क्या ख़्वाहिशों को मार कर

    है हमें लड़ना मुसलसल वक़्त से
    हर घड़ी हासिल तज़ुर्बा यार कर

    बहुत बढिया।