ग़ज़ल

Suyash Sahu

रचनाकार- Suyash Sahu

विधा- गज़ल/गीतिका

हर शय का इस तरह एहतिमाम होता है
गूंगों से पूछ कर यहां काम होता है

साबित है घर किसका हंगामा-ए-शहर से
चोर-सिपाही में अब दुआ-सलाम होता है

इश्क़ में करती हैं खता आँखें अक्सर
दिले – नादाँ पर क्यों इलज़ाम होता है

क़र्ज़ की सूरत है लहू उसका वतन पर
माज़ी के पन्नों में जो गुमनाम होता है

यार कोई यकबयक मिलता है जब कभी
फिर तकल्लुफ का नहीं कोई काम होता है

गिरता है पहाड़ों से झरना कोई जैसे
मेरी साँसों की लय में तेरा नाम होता है

बदकारी,अय्यारी,सहूलियतें सरकारी
इस दौर में रहबर का यही काम होता है

Sponsored
Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Suyash Sahu
Posts 9
Total Views 63

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia