ग़ज़ल

Tejvir Singh

रचनाकार- Tejvir Singh

विधा- अन्य

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

दुश्मनी भी न हम से निभाई गई।
ये नज़र जब नज़र से मिलाई गई।

चाक हैं दिल-जिगर नैन में नीर है।
दिल्लगी ना किसी से बताई गई।

मैं सलाई चला बुन चुकी ख़्वाब जो।
आँख खुलते कहाँ ये बुनाई गई।

चोट दे-दे के सब बन रहे रहनुमां।
ए ख़ुदा तेरी कितको खुदाई गई।

रूह तक ज़ख्म का सिलसिला देखिए।
पर दवा भी न कोई लगाई गई।

प्यास से जान मेरी चली जा रही।
अंजुरी भर न उनसे पिलाई गई।

'तेज' सुर में कोई तो ग़ज़ल अब कहो।
जो न महफ़िल में अब तक सुनाई गई।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
© तेजवीर सिंह 'तेज'

Views 7
Sponsored
Author
Tejvir Singh
Posts 25
Total Views 144
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia