ग़ज़ल- बहुत दौलत जुटा कर भी हमें सब छोड़ जाना है

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल- बहुत दौलत जुटा कर भी …
____________________________
ये कलयुग है यहाँ तो पाप को मिलता ठिकाना है
कि सच मैं बोल कर टूटा बड़ा झूठा जमाना है

यहाँ पर पाप हैं करते कि हम औ आप हैं करते
बहुत दौलत जुटा कर भी हमें सब छोड़ जाना है

न पूछो हाल कैसे हो गुजारा हो रहा कैसे
मेरी मजबूरियों पे क्या तुझे फिर मुस्कुराना है

हैं यादें आज भी मेरा कलेजा चीर देतीं जो
वही यादें बचीं मुश्किल जिन्हें अब भूल पाना है

भला 'आकाश' तुमसे हम शिकायत किसलिए करते
तुम्हारा काम जब केवल सभी का दिल दुखाना है

– आकाश महेशपुरी

Views 45
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 81
Total Views 3.5k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia