ग़ज़ल- मुझे आजकल नींद आती कहाँ है

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल- मुझे आजकल नींद आती कहाँ है
★★★★★★★★★★★★★★
मुझे आजकल नींद आती कहाँ है
कि यादों में आ के वो जाती कहाँ है

वो मय सी निगाहें अदाएँ नशीली
है सबकुछ मगर वो पिलाती कहाँ है

उसे चोर साबित करूँ मैं कसम से
पता जो चले दिल छुपाती कहाँ है

नज़ारे बहुत हैं जमाने में लेकिन
वो चेहरे से परदा उठाती कहाँ है

लिखा आँसूओं से जरा चल के देखूँ
वो मेरे ख़तों को जलाती कहाँ है

मैं 'आकाश' जिसपे मरे जा रहा हूँ
वो मुझको झलक भी दिखाती कहाँ है

– आकाश महेशपुरी

Sponsored
Views 96
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 85
Total Views 5.9k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia