ग़ज़ल- नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल- नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
नज़ारे बड़े अलहदा हो चले हैं
कि जबसे वे हमसे खफा हो चले हैं

हैं दिल में छुपे यूँ दिखाई न देते
मुझे लग रहा वे खुदा हो चले हैँ

न देखो इधर तुम कहीं और जाओ
कि हम तो कोई बुलबुला हो चले हैं

निखर से गये हो मुझे भूल कर तुम
तुम्हारे लिए क्या से क्या हो चले हैं

मुझे जान कहने से थकते नहीं थे
वही जानकर क्यों जुदा हो चले हैं

हूँ बीमार 'आकाश' आये नहीं वे
हमारे लिए जो दवा हो चले हैं

– आकाश महेशपुरी

Sponsored
Views 23
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 84
Total Views 4.7k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia