ग़ज़ल- जिसे देखता हूँ मैं छिपकर हमेशा

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल- जिसे देखता हूँ मैं छिपकर हमेशा
☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆☆
जिसे देखता हूँ मैं छिपकर हमेशा
कि उसका रहा दिल है पत्थर हमेशा
~~~
वो मेरा नहीं हो सकेगा कभी भी
जिसे है रखा दिल के अंदर हमेशा
~~~
ये नजरें कहो कब मेरी जान लेंगी
जिसे लोग कहते हैं खंजर हमेशा
~~~
मेरी प्यास बढ़ती रही है निरंतर
भले वो पिलाये समंदर हमेशा
~~~
हँसो मेरी सूरत पे हर बार लेकिन
रहोगे नहीं तुम भी सुन्दर हमेशा
~~~
वो मिट्टी मेरी जिंदगी हो गयी है
जिसे लोग कहते थे बंजर हमेशा
~~~
जो इतराओगे तो सनम तेरे आगे
झुकेगा नहीं यूँ मेरा सर हमेशा
~~~
है "आकाश" मुमकिन मुझे भूल जाओ
मगर दिल रहेगा तेरे दर हमेशा

– आकाश महेशपुरी

Sponsored
Views 157
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 85
Total Views 5.9k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia