ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने

आकाश महेशपुरी

रचनाकार- आकाश महेशपुरी

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल- आज ये क्या किया सनम तुमने
★★★★★★★★★★★★★
आज ये क्या किया सनम तुमने
जो न सोचा दिया वो गम तुमने

तेरे प्याले में था सुधा रस भी
विष क्यूँ होने दिया हजम तुमने

दूर जिसने रखा बलाओं को
सोचो उसपे किया सितम तुमने

कैसे लोगों से मैं मिलाऊँगा
नैन मेरे किए जो नम तुमने

बोझ तानों का कौन ढोयेगा
मुझमें छोड़ा कहाँ है दम तुमने

क्यूँ भला जिन्दगी से डरते हो
जब यहीं पर लिया जनम तुमने

चोट "आकाश" रोज खाते हैं
और हँसने की दी कसम तुमने

– आकाश महेशपुरी

Sponsored
Views 46
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आकाश महेशपुरी
Posts 84
Total Views 4.7k
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia