ग़ज़ल।यकीं मानो मुहब्बत की सभी क़ीमत चुकाते है ।

रकमिश सुल्तानपुरी

रचनाकार- रकमिश सुल्तानपुरी

विधा- गज़ल/गीतिका

================ग़ज़ल=================

यकीं मानो मुहब्बत की सभी क़ीमत चुकाते हैं ।
नफ़ासत का ज़ख़म पाकर ग़मों मे मुस्कुराते है ।

सुना होगा दिवानों के पुराने क़हक़हे तुमने ।
हमारे दर्द के नग़में सुनो हम भी सुनाते हैं ।

सुबह सूरज के ही सँग मे बढ़ी तनहाइयाँ आती ।
अंधेरों मे जला दिल को अश्क़ों से बुझाते हैं ।

शमा भर तो दग़ा देती रही खामोशियाँ मेरी ।
हुई जो रात तारों से वो आँसू टिमटिमाते है ।

अंधेरा देखना हो तो हमारे घर चले आना ।
चराग़ों रौशनी को ख़ुद तरसते हैं बुझाते हैं ।

वही ग़म है ,वही गर्दिश, वही तन्हा ख़फ़ाई फ़िर ।
वही मंज़र ग़मो के घर मेरे मजलिस लगाते है ।

गमों के ज़लज़लों मे है घरौंदा प्यार का रकमिश ।
शमा होते ढहा करता सुबह फिर से बनाते हैं ।

✍ #रकमिश सुल्तानपुरी

Sponsored
Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रकमिश सुल्तानपुरी
Posts 104
Total Views 1.8k
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं । FB-- https ://m.facebook.com/mishraramkesh मेरा ब्लॉग-gajalsahil@blogspot.com Email-ramkeshmishra@gmail.com Mob--9125562266 धन्यवाद ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia