ग़ज़ल।मेरे हमदम मेरी तनहाइयाँ फिर नापने निकले ।

रकमिश सुल्तानपुरी

रचनाकार- रकमिश सुल्तानपुरी

विधा- गज़ल/गीतिका

=================ग़ज़ल================

मेरे हमदम मेरी तनहाइयाँ फ़िर नापने निकले ।
कि मेरे इश्क़ की गहराइयाँ फ़िर नापने निकले ।

सिसकती रूह की परछाइयाँ फ़िर नापने निकले ।
बिछा दिल रूप की मदहोशियाँ फ़िर नापने निकले ।

नजऱ के ख़ंजरों के दम लगाकर आग़ तन मे वो ।
मेरे क़िरदार की दमदारियाँ फ़िर नापने निकले ।

मुहब्बत मे हक़ीक़त का भरोसा न रहा जिनको ।
लुटे जज़्बात की कमजोरियाँ फ़िर नापने निकले ।

दग़ा से ख़ून- ऐ- आँसू हुए काफ़ूर जब देखा ।
रुआँसी आँख की रुसवाईयाँ फिर नापने निकले ।

चुभो नश्तर ज़िगर को वो कुरेदा कर रहे हर पल ।
कि चेहरे पर रुकी खामोशियाँ फिर नापने निकले ।

नज़ाक़त से मुहब्बत मे बनाकर फासलें 'रकमिश'।
ग़मो से से मंजिलों की दूरियाँ फिर नापने निकले ।

✍रकमिश सुल्तानपुरी ।

Sponsored
Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रकमिश सुल्तानपुरी
Posts 104
Total Views 1.8k
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं । FB-- https ://m.facebook.com/mishraramkesh मेरा ब्लॉग-gajalsahil@blogspot.com Email-ramkeshmishra@gmail.com Mob--9125562266 धन्यवाद ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia