ग़ज़ल।बढ़ गया तब फ़ासला जब चाहने उनको लगा ।

रकमिश सुल्तानपुरी

रचनाकार- रकमिश सुल्तानपुरी

विधा- गज़ल/गीतिका

=================ग़ज़ल================

बढ़ गया तब फ़ासला जब चाहने उनको लगा ।
कुछ मिला न फ़ायदा जब चाहने उनको लगा ।

थे नजरअंदाज तो वे ख़ुब शरारत कर रहे ।
ले रहे अब जायज़ा जब चाहने उनको लगा ।

कशमकश मे दिल लगा बैठा दिवाने सा कोई ।
हो गए वो ग़मज़दा जब चाहने उनको लगा ।

झूठ था या सच इशारा आँख का समझे नही ।
बन गए वो आईना जब चाहने उनको लगा ।

हो गए ख़ामोश मुझको दे गए तनहाइयाँ कुछ ।
ख़ल गया हर रास्ता जब चाहने उनको लगा ।

इश्क़ की शुरुआत मे ही दोस्ती खलने लगी ।
ढह गया हर मामला जब चाहने उनको लगा ।

बेअदब वो पेश आते जा रहे रकमिश ' सबक़ ।
दे रहा है ज़लज़ला जब चाहने उनको लगा ।

✍रकमिश सुल्तानपुरी

Sponsored
Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रकमिश सुल्तानपुरी
Posts 104
Total Views 1.8k
रकमिश सुल्तानपुरी मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , गीत ,नवगीत देशभक्ति गीत, फिल्मी गीत ,भोजपुरी गीत , दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि पद्य की लगभग समस्त विधाएँ लिखता रहा हूं । FB-- https ://m.facebook.com/mishraramkesh मेरा ब्लॉग-gajalsahil@blogspot.com Email-ramkeshmishra@gmail.com Mob--9125562266 धन्यवाद ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia