ग़ज़ल।इशारों से समझ लेंगें।

राम केश मिश्र

रचनाकार- राम केश मिश्र

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल।इशारो से समझ लेंगे ।

झुकी नजरों की बेचैनी निखारों से समझ लेंगे ।
तेरे ख़ामोश अधरों को इशारों से समझ लेंगें ।।

ये मत समझो कि नाज़ुक़ मैं बेगाना हूँ दीवाना हूँ ।
दिले हालात ग़म रौनक़ बहारों से समझ लेंगें ।।

क़ातिल है तुम्हारे भी शहर मे कुछ तेरे हमदम ।
मिलोगे जब कभी उनसे सहारों से समझ लेंगें ।।

यक़ीनन इश्क़ में बिखरे यहा जज़्बात हैं काफ़ी ।
बहे जो आँख में आंसू किनारों से समझ लेगें ।।

छुपाओ लाख़ तुम रंजिश करोगे क्या बहाना तुम ।
उठी नफ़रत की बेशक़ इन दीवारों से समझ लेगें ।

रहो ख़ामोश'रकमिश'तुम जुबां खोलो या न खोलो ।
तुम्हे कितनी मुहब्बत है विचारों से समझ लेंगें ।।

राम केश मिश्र'रकमिश,

Views 27
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
राम केश मिश्र
Posts 53
Total Views 1k
राम केश मिश्र मैं भदैयां ,सुल्तानपुर ,उत्तर प्रदेश से हूँ । मैं ग़ज़ल लेखन के साथ साथ कविता , नवगीत, दोहे हाइकू, पिरामिड ,कुण्डलिया,आदि लिखता रहा हूं । FB-- https ://m.facebook.com/mishraramkesh मेरा ब्लॉग-gajalsahil@blogspot.com Email-ramkeshmishra@gmail.com Mob--9125562266 धन्यवाद ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia