*** ख़्याल-ए-उम्र ****

भूरचन्द जयपाल

रचनाकार- भूरचन्द जयपाल

विधा- गज़ल/गीतिका

अब कुछ तो रखो ख्याल-ए-उम्र

शाम-ए-जिंदगी ढलती जा रही है ।।१

दिल ना जलाओ इन ज़लज़लों से

जिंदगी यूं ही सिमटती जा रही है ।।२

मत रख हाथ अंगार पर अब

जिंदगी खाक बनती जा रही है ।३

ख्वाब दिन में जो देखता है
रात आंखे मलती जा रही है।।४

कैसे समेटूं जिंदगी के वो अनमोल पल

हवाऐं जिनको खुद छलती जा रही है ।।५

कब परवाह की है हमने अपनी

जो जिंदगी यूं सिमटती जा रही है ।।६

कभी हमने कहा था तुमसे ऐ दोस्त

प्यार में यूं दुश्मनी बढ़ती जा रही है ।।७

हालात-ए-जिंदगी छुटकारा पाएं कैसे

जिंदगी में मुश्किलात बढ़ती जा रही है।।८

कभी देख हाल हालात-ए-मेहनतकश

मजबूरियां उसकी बढ़ती जा रही है ।।९

कल बताऊंगा ऐ किस्मत मजबूरियां अपनी

जिंदगी अब धीरे-धीरे ठहरती जा रही है।।१०

मत कर अफ़सोस जिंदगी का अब

जिंदगी अब ज़हर बनती जा रही है ।।११

मद पीकर मत मदहोश हो आशिक

जिंदगी जिंदगी को निगलती जा रही है।।१२

कैसे समेटूं जिंदगी के वो अनमोल पल

हवाऐं जिनको खुद छलती जा रही है ।।१३

ना दोष दो नजरों को मेरी नाज़नीं

जुल्फ जो तेरी बिखरती जा रही है ।।१४

वक्त -ए- हालात बहुत नाजुक है

दुल्हन घूंघट में सिमटती जा रही है ।।१५

भूल से फिर भूल ना हो जाये मुझसे

मुझको गलतियां बदलती जा रही है।।१६

नमन करता हूं आज फिर काव्योदय को

लिखते -लिखते अहर्ता बढ़ती जा रही है ।।१७

कयामत का इंतजार ना कर ऐ 'मधुप'

जिंदगी मौत बन टहलती जा रही है ।।१८

👍मधुप बैरागी

Views 9
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भूरचन्द जयपाल
Posts 312
Total Views 5.1k
मैं भूरचन्द जयपाल वर्तमान पद - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में विशेष रूचि, हिंदी, राजस्थानी एवं उर्दू मिश्रित हिन्दी तथा अन्य भाषा के शब्द संयोग से सृजित हिन्दी रचनाये 9928752150

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia