हक़

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- गज़ल/गीतिका

🌻🌷 हक़ 🌷🌻

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
हक़ मांगने गए तो बड़े शोर हो गए।
इल्ज़ाम ये लगा कि मुंह जोर हो गए।

क़ायम रहा ईमान उनका देश बेचकर।
हम रोटियाँ चुरा के बड़े चोर हो गए।

खा-खा के कसम वोट मांगते जो दिखे थे।
जीते तो पांच साल को फिर मोर हो गए।

चंदे पे लड़ चुनाव जो पहुंचे असेम्बली।
अगले ही साल वन टू का फोर हो गए।

सीमा पे इक जवान था छुट्टी को तरसता।
नेताजी बीस बार आउटडोर हो गए।

फसलें किसान की यहाँ बर्बाद हो रहीं।
नेता दलाली खा के डबलडोर हो गए।

करते थे जो बखान कि सिस्टम में दोष है।
कुर्सी उन्हें मिली तो वही प्योर हो गए।

हर आदमी है "तेज" मगर क्या उपाय है।
सुन-सुन के ज्ञान-ध्यान सभी बोर हो गए।
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
तेजवीर सिंह "तेज"

Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 64
Total Views 584
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia