होली की चौपाल

शिव मोहन यादव

रचनाकार- शिव मोहन यादव

विधा- कविता

बंदर के घर लगी हुई थी,
होली की चौपाल,
सभी जानवर मस्ती में थे,
उड़ने लगा गुलाल!

ऊंचे स्वर में आज गधे ने,
गाई लम्बी फाग।
भालू दादा ढोलक लेकर,
मिला रहे थे राग।
नहीं किसी का सुर मिल पाया,
मिली न कोई ताल!
बंदर के घर. . .

तभी वहाँ गुब्बारे लेकर,
आया एक सियार।
बोला सबको बहुत मुबारक,
होली का त्योहार।
आओ देखो गुब्बारों में,
हम लाये हैं माल!
बंदर के घर. . .

देखा तो इतने में भैया,
सक्रिय हुआ सियार।
फिर सबको गुब्बारे मारे,
कर डाली बौछार।
सबके चेहरे रंगे हुए थे,
काले, पीले, लाल!
भगदड़ चारों ओर मच गयी,
खतम हुई चौपाल!!

Sponsored
Views 91
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
शिव मोहन यादव
Posts 5
Total Views 101
जन्म- नेरा कृपालपुर, कानपुर देहात में माता-पिता : श्रीमती कुषमा देवी-श्री सूरज सिंह शिक्षा: बी.एस-सी., एम.ए.(जनसंचार एवं पत्रकारिता) लेखक 'दैनिक जागरण' में उप संपादक रहे हैं. पता - नेरा कृपालपुर, गौरीकरन, कानपुर दे. यूपी मो. 9616926050 ई-मेल - shivmohanyadavkanpur@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia