होली:भावनाओं के रंग!

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

रचनाकार- मुकेश कुमार बड़गैयाँ

विधा- लेख

हम घर किसे कहते हैं पता है आपको? चार दीवारें ,चिकना फर्श,गेट पर गुर्राता विलायती कुत्ता और भी बहुत कुछ —जी बिलकुल भी नहीं इसे हम मकान कहते हैं —नींद न आयेगी रात भर —लाख कोशिश कर लें।क्योंकि हमने भावनाओं के बरगद को घर समझा है ,महसूस किया है।
टूटी-फूटी झुपड़िया में हम बेफ्रिक सोते हैं ।
हमारे देश में भावनाएँ, उमंग, उत्साह, अल्लहड़ता,आनंद आदि सब कुछ हवा में बहता है ;हम इसे खरीदने बाजार नहीं जाते ।
हम प्रतिदिन आरती, भजन गीत नृत्य के साथ जीवन जीते हैं ।
यही सब कुछ झलकता है हमारे त्योहारों में ।
होली में हमारी उमंग उत्साह और अल्लहड़पन की भावनाएँ प्रस्फुटित हो उठती हैं और हम झूमझूम कर नाचने गाने लगते हैं और रंगों से जीवन में आनंद भर लेते हैं ।

होली है–शुभकामनाएँ के साथ :मुकेश कुमार बड़गैयाँ।

Sponsored
Views 19
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
मुकेश कुमार बड़गैयाँ
Posts 23
Total Views 854
I am mukesh kumarBadgaiyan ;a teacher of language . I consider myself a student & would remain a student throughout my life.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia