” होठों पर पलने लगे हैं , मीठे मीठे छंद ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

अनुभूति छुअन की ,
दर्द मीठा सा जगाये !
झोंका नम हवा का ,
आँखों में सपने सजाये !
खिड़कियों के पट –
अब कहाँ हैं बंद !!

धीमी पदचाप ले ,
धूप है कभी छाँव !
अब यहां डिगने लगे ,
स्मृतियों के पाँव !
आँगने बौरा गयी है –
फिर यहाँ मधुगंध !!

हमने सजाये थे ,
किताबों में गुलाब !
ताज़ा दम रखे अभी ,
महक जाते ख़्वाब !
कसमसाती ज़िन्दगी है –
और कई अनुबंध !!

साँसों पर सजाई ,
प्यार की सरगम !
भुजदंड ढीले पड़ गये ,
ऐसे कसे बंधन !
प्रीत में रमने लगा मन –
हो गया निर्द्वन्द !!

Sponsored
Views 379
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 125
Total Views 25.2k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia