हे भारत माँ

Parul Sharma

रचनाकार- Parul Sharma

विधा- कविता

ये जमीं तेरी,येआँसमाँ तेरा,येआबोहवा,प्रकृति व जहाँ भी तेरा,
येजीवन,तन,साँस,लहू और ये धड़कन भी तेरी तेरा तुझको क्या मैं अर्पण करूँ ?
बस वादा है ये………….
जो है तेरा, कुछ नहीं मैं,न मेरा,
देकर तुझको तेरा
हे भारत माता……….
तन,मन,धन,कर्म व धर्म से अपना पूरा हर कर्म करूँ।
तुझ पर यह तन,यह जीवन,हर जनम समर्पण करूँ।
** " पारुल शर्मा " **

Sponsored
Views 64
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Parul Sharma
Posts 5
Total Views 183

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia