हे! पार्थ सुनो परिचय मेरा ।

Dr. umesh chandra srivastava

रचनाकार- Dr. umesh chandra srivastava

विधा- गीत

हे ! पार्थ सुनो परिचय मेरा ।
हम में तुम में कण- कण में मैं
सर्वत्र सदा अभिनय मेरा ।।
फूलों कलियों काँटो में मैं
सौरभ पराग मधुपों में मैं
सुख- दुःख के निज विषयों में मैं
लय- प्रलय धरा अम्बर में मैं
उस युग में था इस युग हूँ
मैं युगों रहूँ निश्चय मेरा
अवनति उन्नति उपक्रम भी मैं
ऋतु समय चक्र का भी मैं
राधा- मोहन दोनों ही मैं
सारे जग का सत्क्रम भी मैं
पीयूष गरल विषहर भी मैं
क्यों मन में हो संशय मेरा
मैं आदि- अन्त अक्षय अगम्य
अति सूक्ष्मरूप संसार भी मैं
मैं महाकाल का शंख- नाद
तद्आत्म रूप विस्तार भी मैं
मैं चिर- परिचित वह ब्रह्म- नाद

Sponsored
Views 45
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr. umesh chandra srivastava
Posts 46
Total Views 432
Doctor (Physician) ; Hindi & English POET , live in Lucknow U.P.India

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment