हे पवन पुत्र

लक्ष्मी सिंह

रचनाकार- लक्ष्मी सिंह

विधा- कविता

🌹🌹🌹🌹
हे पवन पुत्र तुम तो हो,
शिव शंकर के अवतारी।

हे अंजनी लाल जग में,
तेरी महिमा न्यारी।

बजरंगी है नाम तुम्हारा,
श्री राम के आज्ञाकारी।

लाल-लाल है रूप तुम्हारा,
लाल लंगोटी धारी।

एक हाथ में गदा विराजे,
दूजे में पर्वत भारी।

तेरी भक्ती और शक्ति को,
जाने दुनिया सारी।
🌹🌹🌹🌹🌹 —लक्ष्मी सिंह💓☺

Views 163
Sponsored
Author
लक्ष्मी सिंह
Posts 149
Total Views 46.1k
MA B Ed (sanskrit) please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia