*** हे दीप देव !!!

दिनेश एल०

रचनाकार- दिनेश एल० "जैहिंद"

विधा- कविता

हे दीप देव !!!

हे दीप देव ! मन- मलिनता चूर करो ।।
अज्ञान रूपी मलेच्छ को अब दूर करो ।
हर घर का तुम क्लेश चकनाचूर करो ।
उपयोग फिर से निज का भरपूर करो ।।

कटुता, दुष्टता, मूर्खता सारे हाथ मलें ।
आप मग्न निज काज में सदा फूले-फलें ।।
दीप जले दीप जले घर-घर दीप जले ।
तिमिर भगाने को दीप जले नीम तले ।।

अंधकार को अग्नि जलाकर भस्म करो ।
दिए जलाकर अज्ञानता को नष्ट करो ।।
मानव को पुनः सुबुद्धि का प्रकाश दो ।
सत्-विचार, धर्म- सुकर्म की आस दो ।।

दीप रहित समूल धरती यह बेकार है ।
आप के बिना मेरे हृदय में अंधकार है ।।
आप लघु रूपी घर-घर का दिनेश हो ।
आप अंतिम आस जन-जन की शेष हो ।।

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
14. 06. 2017

Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
दिनेश एल०
Posts 76
Total Views 616
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों मे भी संघर्ष कर चुका,,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia