हे कृष्ण मेरे

अनुपम राय'कौशिक'

रचनाकार- अनुपम राय'कौशिक'

विधा- कविता

सुनी-सुनी गुज़र गयी,
अब की बार दीवाली भी,
तुम बिन कौन निखारे मुझको,
कौन बने मेरा सारथी,

तुम तो थे कृष्ण मेरे,
मैं अर्जुन तुम्हारा था,
तुमने ही तो बस मुझे,
हर पथ पर संभाला था!

क्यों चले गए हे कृष्ण! मेरे,
राधा सी बिरही बना मुझे,
नित नैन निहारें राह तेरी,
नित अश्रु की गंगा बहती है,

तुम थे तो थी नित होली मेरी,
हर रात्रि दीवाली मनती थी,
तुम चले गए हे कृष्ण! मेरे,
अब उजड़ गयी ये दुनिया मेरी!!

-अनुपम राय'कौशिक'

Sponsored
Views 56
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia