हे ईश्वर तूने क्या किया मेरी बेटी पराई हो गई

कृष्णकांत गुर्जर

रचनाकार- कृष्णकांत गुर्जर

विधा- कविता

🌺क्यो बेटी पराई हो गई🌺
हे ईश्वर तूने क्या किया मेरी बेटी पराई हो गई|
बचपनसेपाला है जिसकोअब बही पराई होगई||
🌺🌺🌺🌺
तू कैसा निर्दयी है भगवन बेटी से जुदाई हो गई|
बेटे को पराया करता तू क्यो बेटी पराई हो गई||
🌺🌺🌺🌺
हाय किस्मतफूटीजान गई दुनिया येकैसेमानगई|
जो दिलका मेरा टुकड़ा है वोही तो पराई होगई||
🌺🌺🌺🌺
मां रोती बिलक बिलक के बेटी बिदाई हो गई |
मेरे प्यारे बेटे की भी अब सूनी कलाई हो गई||
🌺🌺🌺🌺
ना तेरे दिल होगा भगवन ना तेरे प्यारी बेटी है|
जिस के बेटी बो जाने क्या बेटी बिदाई हो गई||
🌺🌺🌺🌺
बेटी बिन की हे भगवन अब गोदी खाली हो गई|
क्यो पराई हो गई  क्यो बेटी बिदाई हो गई||
🌺🌺🌺🌺
तूने श्रृष्टि की रचना की फिर ये क्यो पराई हो गई|
हे ईश्वर तूने क्या किया मेरी बेटी पराई हो गई||
कृष्णकांत गुर्जर

Views 40
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कृष्णकांत गुर्जर
Posts 60
Total Views 2.1k
संप्रति - शिक्षक संचालक G.v.n.school dungriya G.v.n.school Detpone मुकाम-धनोरा487661 तह़- गाडरवारा जिला-नरसिहपुर (म.प्र.) मो.7805060303

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia