हूं मैं कहां…

Tanishka Chaudhary

रचनाकार- Tanishka Chaudhary

विधा- कविता

मैं रहती हूं,
पर हूं कहाँ।
मैं सहती हूँ,
पर हूं कहाँ।
मैं डरती हूं,
पर हूं कहाँ।
मैं मरती हूं,
पर हूं कहाँ।
मैं लड़की हूं,
मैं हूँ यहाँ। मेरी एक साँस से पहले,
मारी जाती हूँ।
कौन कहता है,
लड़का ही नाम करेगा। मैं हूँ एक इंसान,
पर क्यूं समझे शैतान,
क्या लड़का है भगवान।
फिर मैं हूँ कहाँ,
मैं भी तो हूं यहाँ।

Views 92
Sponsored
Author
Tanishka Chaudhary
Posts 1
Total Views 92
मैं भगवान श्री कृष्ण की जन्मस्थली मथुरा (उत्तरप्रदेश) की रहने वाली हूँ एवं कक्षा 8 की छात्रा हूँ।मुझे कविताएं एवं काल्पनिक कहानियां लिखने का शौक है।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia