हुई मुहब्बत श्याम से

arti lohani

रचनाकार- arti lohani

विधा- कविता

सब काम हुए आराम से ।
जब मुहब्बत हुई श्याम से ।।
कैसे कहूँ मैं व्यथित बहुत हूँ।
तुम बिन मैं विचलित भी बहुत हूँ
कब से पुकारूँ ओ मेरे प्रियतम।
मीरा सी बन जाऊं जोगन।
मिल जाऊं मैं तो श्याम से ।

उद्धव को ज्ञान बहुत था।
अपने पे अभिमान बहुत था।
जब प्रीत का पाठ पढ़ाया।
सुध-बुध खोकर फिरता रहता।
दंभ जो तोडा श्याम ने।

कुंज-गलीं में फिरता रहता।
राधा संग है रास रचाता।
वृंदा से वो प्रीत निभाए।
ग्वालिन को भी नाच नचाये।
आलिंगन कर जमुना जी को।
प्रीत निभाता श्याम तो।।

Sponsored
Views 28
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
arti lohani
Posts 48
Total Views 573

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia