हिम्मत जुटा कर दो टूक शब्द लिख रहा हूँ

कृष्ण मलिक अम्बाला

रचनाकार- कृष्ण मलिक अम्बाला

विधा- कविता

हिम्मत जुटा कर दो टूक शब्द लिख रहा हूँ
बेहरूपियों के समाज में धीरे धीरे जीना सीख रहा हूँ
मेरी नियत में इंसानियत है यही वर्षों से चीख रहा हूँ
लाखों दिए सबूत फिर भी किसी को क्यों नहीं दिख रहा हूँ
कभी बिखर के सिमटना तो कभी सिमट के बिखर रहा हूँ
आज हूँ पैरों की धूल कभी चोटी का शिखर रहा हूँ
दुनिया में दरिंदा अपनी नजरों में शरीफ रहा हूँ
सबके दिलों के दूर पर खुद के करीब रहा हूँ
खुदा की हो जाये मेहर यही कब से रीझ रहा हूँ
उसके आगे करी हर प्रार्थना को आंसुओं से सींच रहा हूँ
हिम्मत जुटा कर दो टूक शब्द लिख रहा हूँ……….

Views 135
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कृष्ण मलिक अम्बाला
Posts 41
Total Views 10.1k
कृष्ण मलिक अम्बाला हरियाणा एवं कवि एवं शायर एवं भावी लेखक आनंदित एवं जागृत करने में प्रयासरत | 14 वर्ष की उम्र से ही लेखन का कार्य शुरू कर दिया | बचपन में हिंदी की अध्यापिका के ये कहने पर कि तुम भी कवि बन सकते हो , कविताओं के मैदान में कूद गये | अब तक आनन्द रस एवं जन जागृति की लगभग 200 रचनाएँ रच डाली हैं | पेशे से अध्यापक एवं ऑटोमोबाइल इंजिनियर हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments