हिमालय

guru saxena

रचनाकार- guru saxena

विधा- अन्य

कुंदलता सवैया ( 8 सगण 2 लघु)
चलते नित हैं सत् के पथ में,
फिर हो किस भांति हमारी पराजय।
जिस ठौर रहें सब ताप सहें,
कुछ भी न कहें निर्लेप निरामय।
दिन रात लिए व्रत अंगद सा,
हम नाहिं करें क्षण को भी जरा भय।
नभ से कर बात खड़ा तनके,
प्रहरी बनके गिरिराज हिमालय।

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
guru saxena
Posts 21
Total Views 169

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia