हिंदी

vivek saxena

रचनाकार- vivek saxena

विधा- कविता

जन जन की है भाषा हिंदी
भारत की अभिलाषा हिंदी
विश्व पटल पर कदम बढ़ाती
एक नई आशा है हिंदी

विश्व गुरू का मान है हिंदी
निज गौरव की आन है हिंदी
इससे बढ़कर नहीं और कुछ
भारत का स्वाभिमान है हिंदी

हमें गर्व हम हिंदुस्तानी
प्यारी हिंदी अपनी बानी
है भाषा ये पावन सरिता
ज्यों बहता गंगा में पानी

हिंदी को तुम प्यार करो
मां सा नेह दुलार करो
है भाषाओं की यह जननी
उसका नित सत्कार करो।

-डा विवेक सक्सेना

Sponsored
Views 23
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
vivek saxena
Posts 8
Total Views 72

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia