हास्य -व्यंग्य कविता – कुत्ते की तिरछी दुम

डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

रचनाकार- डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज

विधा- कविता

कुत्ते की तिरछी दुम
————————-
पाँच वर्ष के वाद हैं आये नेता पोपटराम ,
सम्पत्ति और तोंद बढा ली करि करि खोटे काम ।
करि प्रणाम बोले अबकी हम को देना वोट ,
यदि हम अबकी बने विधायक हर जेब में होगा नोट ।
खुशहाली घर घर में होगी सड़क बिजली पानी ,
शिक्षितों को बेरोज़गारी भत्ता सुखी होगी जिन्दगानी ।
मुफ्त मोबाइल फोन मिलेगा कृषक ऋण होंगे माँफ ,
जो जो तुमको कष्ट मिले हैं सब हो जायेंगे साफ ।
रसोई गैस मुफ्त मिलेगी कन्याओं को मिलेगा धन ,
हर बेटी की होगी शादी चाहे हो वो निर्धन ।
जीवन के सन्ताप मिटेंगे ऐसा हमारा वादा ,
सबसे अच्छी सेवा करेंगे ऐसा हमारा इरादा ।
हाथी हाथ कमल साईकिल को याद न रखना तुम ,
हमारा चिह्न याद रखना ' कुत्ते की तिरछी दुम' ।
डाँ तेज स्वरूप भारद्वाज

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 46
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
डॉ तेज स्वरूप भारद्वाज
Posts 36
Total Views 1.3k
Assistant professor -:Shanti Niketan (B.Ed.,M.Ed.,BTC) College ,Tehra,Agra मैं बिशेषकर हास्य , व्यंग्य ,हास्य-व्यंग्य,आध्यात्म ,समसामयिक चुनौती भरी समस्याओं आदि पर कवितायें , गीत , गजल, दोहे लघु -कथा , कहानियाँ आदि लिखता हूँ ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia