“. . . हाल गये ।”

Pradipkumar Sackheray

रचनाकार- Pradipkumar Sackheray

विधा- गज़ल/गीतिका

( यह हास्य गज़ल हैं , इसमें इक तोतला प्रेमी अपने प्रेमिका से दिल का दर्द बयां कर रहा हैं ! . . . )

तेले प्याल में ज़ानू इसकदल हाल गये ।
बेमौत अपने – आप को ही हम माल गये ।

समज़ में नहीं आयी , थी ख़ता तेली या मेली ,
दूल कुछ पहले , कुछ बाद दोस्त – याल हुये ।

तुझे देवी बनाया मेले प्याल के मंदिल की ,
अब उसी घल – मंदिल के बियल – बाल हुये ।

क्यां कले ? इस के अलावा कुछ कल ना सका ,
हम तो भली ज़वानी में अब बेकाल हुये ।

युं आस थी तेले घल को ससुलाल बनाऊँ ,
तेले घल के माली तक से इनकाल हुये ।

इक हसलत थी की , तेली ड़ोली उठा लावु ;
अब अलमानों के अल्थी के कंधे चाल हुये ।

इस फ़कील के झोली से कैसें इलाज़ होगा ?
उस कातील निगाहों से गहले वाल हुये ।

व्यापाली बाप उसका दिल बेचने बैठा हैं ,
लगता हैं , अब तो चाहतों के बाज़ाल हुये ।

– शायर : प्रदिपकुमार साख़रे
+917359996358.

Views 7
Sponsored
Author
Pradipkumar Sackheray
Posts 7
Total Views 250
Pr@d!pkumar $ackheray (The Versatile @rtist) : - Writer/Poet/Lyricist, Mimicry Artist, Anchor, Singer & Painter. . .
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia