” हालात नहीं बदले हैं ” !!

Bhagwati prasad Vyas

रचनाकार- Bhagwati prasad Vyas " neerad "

विधा- कविता

सीमा पर वही तनातनी ,
संकट के बादल गहरे !
छद्मयुद्ध दुश्मन करता ,
कितने बैठायें पहरे !
आतंकी सदमे में थोड़े –
लेकिन सम्भले सम्भले हैं !!

भारत विरोध के नारे हैं ,
बदले की आवाजें उठती !
काश्मीर दुखती रग जानो ,
हैं साँसे वहां अटकती !
सेना,सत्ता,आतंकी के –
ख़्वाब वही रुपहले हैं !!

भीतरघात यहाँ होनी है ,
खार खाये बैठा दुश्मन !
यहाँ वहाँ मोर्चे साधे हैं ,
फैलाये बैठा है फन !
विषदंत तोड़ने को आतुर –
करना हमको हमले हैं !!

धुंध धुंआ है गोलीबारी ,
हाथों में हैं हथगोले !
कितना कब तक धीर धरे ,
अब दिमाग में हैं शोले !
तुम्हे जीत का छोर मिले ना –
फिर नहले पर दहले हैं !!

Views 364
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Bhagwati prasad Vyas
Posts 83
Total Views 23.9k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia