हायकू

अल्पना नागर

रचनाकार- अल्पना नागर

विधा- हाइकु

हायकू
(1)
कभी रुके न
समय मुसाफ़िर
चलते जाना
(2)
सूखे गुलाब
जीवन की साँझ में
हरा बसंत
(3)
सम्बन्ध घास
अहंकार की आग
अंततः खाक
(4)
रूठना तेरा
वसंत समय का
शिशिर होना
(5)
आजकल वो
लबालब भरे हैं
खालीपन से
(6)
कोरा कागज़
पढ़ लो जरा तुम
भाव के मोती
(7)
तुम्हारा जाना
घड़ी की टिक टिक
ठहरा वक्त
(8)
शीत ऋतु में
मुट्ठी भर धूप सी
उजली यादें

अल्पना नागर

Views 22
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अल्पना नागर
Posts 6
Total Views 83
मेरा नाम अल्पना नागर है।पेशे से शिक्षिका हूँ।मूलतः राजस्थान से हूँ, वर्तमान में दिल्ली में निवास है।पिछले 1 वर्ष से साहित्य सृजन में संलग्न हूँ।सभी तरह की कविताएं छंद मुक्त,छंद बद्ध, गीत,नवगीत,ग़ज़ल, गीतिका,हायकू,क्षणिकाएं लिखना व पढ़ना बहुत पसंद है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia