हाइकू

तेजवीर सिंह

रचनाकार- तेजवीर सिंह "तेज"

विधा- हाइकु

हुरियार हायकू….

🌺🌻💐🌹🌷🌺🌻💐🌹🌷

ब्रज की होरी
बचै ना कोई कारी,
ना कोई गोरी।

नन्द कौ लाल
भरि-भरि मारत,
रंग-गुलाल।

आज खेलत
ब्रज में फाग हरी,
सखी बच री।

जमना तीर
गुपाल उड़ावत,
रंग-अबीर।

कोई जाओ ना
जमना तीर ,रंगै
रंग ते कान्हा।

रंग दी चोली,
पिया रंगरेज की,
रँगीली होली।

चलौ री सखी
मिल कें डारें रंग,
राधिका संग।

जग में होरी
या ब्रज होरा ,सखि
नन्द कौ छोरा।

रंग रंगीलौ
रोकै गैल मुरार,
करौ री पीलौ।

लै पिचकारी
मारत 'तेज' कुमार,
रंग की धार।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
तेजवीर सिंह "तेज"✍

Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
तेजवीर सिंह
Posts 64
Total Views 555
नाम - तेजवीर सिंह उपनाम - 'तेज' पिता - श्री सुखपाल सिंह माता - श्रीमती शारदा देवी शिक्षा - एम.ए.(द्वय) बी.एड. रूचि - पठन-पाठन एवम् लेखन निवास - 'जाट हाउस' कुसुम सरोवर पो. राधाकुण्ड जिला-मथुरा(उ.प्र.) सम्प्राप्ति - ब्रजभाषा साहित्य लेखन,पत्र-पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन तथा जीविकोपार्जन हेतु अध्यापन कार्य।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia