*हाइकु-माला

डॉ. हीरालाल प्रजापति

रचनाकार- डॉ. हीरालाल प्रजापति

विधा- हाइकु

============
तन से काली ॥
पर हिय से वह –
शुभ्र दिवाली ॥
============
मेरी मंज़िल ॥
ग़ैर मुमकिन सा –
आपका दिल ॥
============
अति नव्य है ॥
सच ही घर तेरा –
अति भव्य है ॥
============
आ जा सजलें ॥
दुख से बचकर –
थोड़ा नचलें ॥
============
थक रहा हूँ ॥
पल दो पल भर –
रुक रहा हूँ ॥
============
-डॉ. हीरालाल प्रजापति

Views 26
Sponsored
Author
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia